Thursday, April 28, 2011

हरियाणे का ताऊ --बस यूँ ही बैठे बैठे ---

दिल्ली में गर्मी का आगमन धीरे धीरे हो रहा हैबढ़ती गर्मी का प्रभाव तन पर तो पड़ता ही है , मन पर भी पड़ता है
मन कुछ अशांत हो तो बाहर बालकनी में बैठ जाता हूँ । नीचे सड़क किनारे हरे भरे पेड़ों के बीच गुलमोहर के पेड़ भी हैं जिन पर इस समय फूलों की बहार आई हुई है ।
संतरी रंग के फूलों को देखकर मन कुछ शांत होता है । और यूँ ही बैठे बैठे याद जाती हैं कुछ हरियाणवी बातें

)

हमारे एक हरियाणवी ताऊ थे । थे ही कहना पड़ेगा क्योंकि अब तो हम खुद ताऊ बन चुके हैं । एक दिन एक शादी में उनके गाँव जाना हुआ । उस समय मैं एम् बी बी एस कर रहा था ।

गाँव पहुंचा तो देखा ताऊ हलवाई के पास कढ़ाई पर बैठे थे हुक्का गुडगुडाते हुए ।
मैंने जाकर कहा --ताऊ राम राम
वो बोले --राम राम भाई छोरे , आज्या , और सुणा कौन सी क्लास में पढ़े सै ।

मैंने सोचा इनको एम् बी बी एस का क्या मतलब समझ आएगा । सो कहा --ताऊ डाक्टरी का कोर्स कर रहा हूँ ।

ताऊ बोला --भाई कोर्स वोर्स तै ठीक सै , पर न्यू बता कितनी ज़मात पढ़ा ।
मैंने कहा --ताऊ बस यूँ समझ लो कि बारहवीं पास कर के दाखिला लिया था ।
ताऊ -- भाई बारा पढ़ा , थोडा ही पढ़ा अरै चौदाह पढ़ कै , कम तै कम बी पास तै करनी चाहिए थी

मैंने कहा --ताऊ बस ये डॉक्टरी कोर्स में दाखिला मिल गया ।
ताऊ --ना भाई नास्वाद नहीं आयाअरै बी पास करता तै मुन्सी बनता , पटवारी बनता --यो डाक्टरी का कोर्स करके के कम्पाउंडर बनैगा


) हरियाणवी लोग मीठा खाने के बड़े शौक़ीन होते हैं

ताऊ भी रोज ताई से हलवा बनवाकर खाते थे । लेकिन एक दिन ताई ने हलवा नहीं बनाया । ताऊ को गुस्सा आ गया और वो आंख बंद कर लेट गया । तभी वहां भीड़ लग गई । सब सोचने लगे --ये ताऊ को क्या हो गया । किसी ने कहा --अरे मूंह पर पानी मारो । कोई बोला --भाई जूता सुन्घाओ । कोई कुछ उपाय बता रहा था कोई कुछ ।
इतने में एक समझदार सा आदमी बोला --अरै ताऊ ने हलवा खिला दो ।

अब ताऊ ने एक आँख खोली और उस आदमी की ओर इशारा कर बोला --रै कोए इस की भी सुण ल्यो

)
गाँव में कोई भी ब्याह शादी होती , ताऊ का न्यौता ज़रूर होता

लेकिन एक बार एक महाशय ने उन को नहीं बुलाया । अब ताऊ को बड़ी बेचैनी हुई । एक दो बार उनके घर के आगे से चक्कर लगाये । लेकिन किसी ने उनकी ओर ध्यान नहीं दिया । अब ताऊ के सब्र का बाँध टूट गया ।

उसने देखा --गली में चावल का मांड बहा दिया गया था । उसने जान बूझ कर उसमे पैर मारा और चिल्लाने लगा --अरै किस नालायक का काम सै , सारा रास्ता बंद कर दिया राह में गंद फैला दी और लगा ताऊ ऊंची ऊंची गालियाँ बकने

अब लोगों का ध्यान ताऊ की तरफ गया तो एक बोला --अरे भाई ताऊ को न्यौता नहीं दिया था क्या । जल्दी से न्यौता दे दो वर्ना आसमान सर पर उठा लेंगे ।

खैर ताऊ को बुला लिया गया ।

ताऊ ने आशीर्वाद देते हुए कहा --भाई मैं जाणू था भोत भला आदमी सै ।

उसके बाद किसी की हिम्मत नहीं पड़ी कि ताऊ को भूल जाएँ

सीख : हरियाणे के ताउओं को अपनी रिस्क पर भूलें

Thursday, April 21, 2011

रीयर व्यू मिरर में जिंदगी कितनी करीब दिखाई देती है ---

कार के रीयर व्यू मिरर में चीजें दूर दिखाई देती हैं


लेकिन जिंदगी के रीयर व्यू मिरर में झांकें तो बीती बातें कल की सी बात लगती हैं

२००० में नया मिलेनियम शुरू हुआ इन दस सालों में जाने कहाँ कहाँ से गुजर गए

२००० से २००२ तक न्यूक्लियर मेडिसिन में पोस्ट ग्रेजुएशन --२००५ में लाफ्टर चैलेन्ज से हास्य में दिलचस्पी का पुनुर्जन्म --२००७ में दिल्ली हंसोड़ दंगल विजय --२००८ में कविता में रुझान --२००९ में ब्लोगिंग का शुभारम्भ

इन सवा दो सालों में २०० पोस्ट लिख डाले , सभी व्यस्ताओं के बावजूद

विषय भी बहुत भिन्न भिन्न रहे :

) सामाजिक मुद्दे : ४७ पोस्ट

विषय --मोबाईल मेनिया , हंसने का महत्त्व , भिखारी , भ्रष्टाचार , दिल्ली का ट्रेफिक , शादियाँ और फिजूलखर्ची , संस्कृति , अंध विश्वास , खाद्य पदार्थों में मिलावट , होली , दिवाली , सगोत्रीय विवाह , अपनापन , धूम्रपान , आडम्बर , गीता का ज्ञान , पीपल की महिमा , भंडारा , पागल , रीति रिवाजें , आस्था , घरेलु हिंसा , एच आइ वी और शादी , प्रकृति , पर्यावरण , बचपन आदि

) कविता : ४३ पोस्ट

हास्य कवितायेँ , ग़ज़ल , नज्में , दोहे , मुक्तक --सभी पर प्रयोग


) दिल्ली दर्शन और सैर सपाटा ( फोटोग्राफी ) : ३० पोस्ट

कनाडा -टोरोंटो , क्यूबेक , एल्गोन्क़ुइन
दिल्ली - लोदी गार्डन , नेहरु पार्क , इण्डिया गेट , ट्रेड फेयर , रिज पार्क , पुराना किला , लाल किला , ज़ामा मस्जिद , कवि नीरज से मुलाकात , दिल्ली हाट , तालकटोरा पार्क , गार्डन ऑफ़ फाइव सेंसिज और राष्ट्र मंडल खेलों का दिल्ली पर प्रभाव

अंडमान निकोबार द्वीप समूह

गोवा की सैर


) हास्य -व्यंग लेख : ३० पोस्ट

) स्वास्थ्य संबंधी लेख : १९ लेख

मोटापा , ग्लोबल वार्मिंग , बाल शोषण , एपिलेप्सी , एड्स , ह्रदयघात , हिपेटाईटिस , सिंड्रोम एक्स , हाईपरटेनशन, कोबाल्ट ६० , रेबीज , गाउट , आर्थराईटिस , आर एस , हाइपोथायरायडिज्म , हाईपरथायरायडिज्म, ८० तक कैसे जियें और विश्व स्वास्थ्य दिवस की रिपोर्ट


) फिल्म समीक्षा और अभिनेत्रियाँ : ४ पोस्ट -- थ्री इडियट्स , मुग़ले आज़म, मीना कुमारी , माधुरी दीक्षित पर लेख ।

) लघु कथा :

) अन्य --विविधा : २६ पोस्ट


इस तरह राजनीति को छोड़कर लगभग सब विषयों पर लिखा , एक ऑल राउंडर की तरह

इस बीच ब्लोगर्स आते रहे और जाते रहे । आरम्भ की टिप्पणियों को देखें तो कई ब्लोगर बन्धु ब्लोगिंग से विदा ले चुके हैं । कईयों ने लिखना काफी कम कर दिया है । कुछ ही हैं जो टिके हुए हैं ।

हम भी सोच रहे हैं कि कोई माने माने , हम भी अब सीनियर ब्लोगर बन चुके हैं

इसलिए नए ब्लोगर्स के लिए जगह खाली करनी चाहिए ।
वैसे भी मनुष्य को हमेशा नए मुकाम की तलाश लगी रहती है । तभी तो विकास होता है ।

अब कुछ नया किया जाएशायद पुस्तक प्रकाशन ! या फिर मंच पर उपस्थिति बढ़ाना
जो भी हो , एक्स्ट्रा क्यूरिकुलर एक्टिविटी तो चलती रहनी चाहिएहालाँकि यदा कदा ब्लोग्स पर भी दिखाई देना होता रहेगा

शुभकामनायें

Saturday, April 16, 2011

हाय ओ रब्बा --- नइयो लगदा --दिल मेरा ---बैसाखी विशेष.

बैसाखी के अवसर पर लिखी पिछली पोस्ट पर आप सब की शुभकामनाओं के लिए दिल से आभार । उनका भी जिन्होंने इ-मेल के ज़रिये अपनी शुभकामनायें भेजी । और विशेष तौर पर पाबला जी , खुशदीप भाई और राजेन्द्र स्वर्णकार जी का , जिन्होंने फोन कर बात कर शाम को यादगार बना दिया ।

उधर निर्मला कपिला जी ने स्नेहपूर्ण शिकायत की कि इस अवसर पर तो सब ब्लोगर्स को पार्टी देनी चाहिए थी । डॉक्टर्स बड़े कंजूस होते हैं

इस पर डॉ अमर कुमार ने प्यार भरी झिड़की लगाई कि भाई क्यों पूरी बिरादरी की नाक कटवाते हो । कुछ करते क्यों नहीं ।

ऐसे में हमें अपना CSOI याद आया । हमने तुरंत इवेंट्स मेनेजर को फोन मिलाया और कहा कि भाई कुछ करो , बिरादरी की इज्ज़त का सवाल है ।

और उन्होंने भी तुरंत आयोजन कर डाला --एक गीतों भरी शाम का जिसमे बैसाखी पर भांगड़ा पेश किया गया ।

अब हमने तो सब को निमंत्रण दे दिया था लेकिन समय की कमी के रहते पहुँच कोई नहीं पाया । समीर लाल जी की भी तीन में से एक भी पार्टी नहीं हो पाई ।

लेकिन प्रत्यक्ष में न सही आभासी ही सही , चलिए आपका स्वागत करते हैं इस पार्टी में ।

भवन को खूबसूरती से सजाया गया था , रेड कारपेट के साथ



एक तरफ बार टेबल लगी थी , जूस पीने के लिए



दूसरी तरफ स्टेज तैयार थी , डांस और गाने के लिए



पेड़ों को भी दुल्हन की तरह सजाया गया था



और यहाँ खाने की टेबल्स लगी थी



लेकिन खाना बाद में , पहले भांगड़ा हो जाएवैसे जींस पहने हुए युवा सरदारों को देखकर ही मस्ती जाती हैउस पर मस्ती भरे गीत --वाह वाह





अंत में एक गीत -हाय रब्बा --- नइयो लगदा --दिल मेरा --




सुनकर जाने क्यों श्रीमती जी सीरियस हो गईशायद एक मां को बच्चों की याद गईआखिर पहली बार ऐसा हुआ था कि ऐसे अवसर पर बच्चे साथ नहीं थे





लेकिन यदि पति डॉक्टर होने के साथ साथ हंसोड़ हास्य कवि भी हों तो भला पत्नी क्या ज्यादा देर सीरियस रह सकती है
हमने भी जाने क्या सुनाया कि वो खिलखिला पड़ी

और हमें हमारी ही लिखी वो कविता याद गई --वो हंसती हैं तो खिल उठते हैं खुशबू लिए बत्तीस किस्म के फूल

और इस तरह एक हरियाणवी युवा युगल ने पंजाबी भांगड़े और गीतों के साथ बैसाखी मनाई

Wednesday, April 13, 2011

चल एक चटाई और लगा भाई के लिए ---

बात बहुत पुरानी हैजितने पुराने हम हैं , समझो उसकी आधी पुरानी है

एक विवाह योग्य युवक शादी के लिए लड़की देखने निकला । या यूँ कहिये कि लड़की वालों के रिश्ते आने लगे । युवक की एक ही शर्त थी कि लड़की डॉक्टर होनी चाहिए , वो भी हरयाणवी ।

अब हरियाणा में लड़कियां ही नहीं होती , फिर डॉक्टर हाँ से मिलती

थक हार कर युवक ने सोचा --क्यों न किसी सिद्ध महात्मा की मदद ली जाये ।

वह एक पहुंचे हुए साधु के डेरे पर पहुंचा । वहां जाकर देखा --सात चटाईयां बिछी थीं । हर चटाई पर एक साधु आसन लगाए बैठा था ।

युवक ने मुखिया साधु से कहा --बाबा , बहुत मुसीबत में हूँ । शादी करना चाहता हूँ , लेकिन लड़की नहीं मिल रही । कोई मन्त्र या उपाय बताओ ।

मुखिया साधु ने छोटे साधु से कहा -- चल एक चटाई और लगा भाई के लिए

युवक ने कहा --बाबा मैं समझा नहीं ।

बाबा बोले --बच्चा , यदि हमारे पास कोई मन्त्र होता तो क्या हम आज यहाँ चटाई बिछा कर बैठे होते ! !


आश्रम के बाबा तो नाम के ही बाबा थे लेकिन ऊपर बैठे उस बाबा में बहुत दम है

आज उस युवक की शादी की २७ वीं सालगिरह है


मोंटमोरेंसी , क्यूबेक , कनाडा --जुलाई २००९


जितना समय शादी से पहले अकेले बिताया , उतना ही शादी के बाद पूरा हुआ है

यौवन की तपन हो या , वृद्धावस्था की शीत
हर पल साथ निभाए जा , सच्चा मन का मीत

नोट : गत वर्ष बैसाखी पर आज ही के दिन १०० वीं पोस्ट लिखी थीआज यह २०० वीं पोस्ट है
आप सब को बैसाखी की हार्दिक शुभकामनायें ।